अरूद्र कबलीस्वरार मन्दिर  

अरूद्र कबलीस्वरार मन्दिर तमिलनाडु के इरोड शहर में स्थित है। यह प्रसिद्ध मन्दिर पाँच सौ वर्ष पुराना है। इरोड के लोगों द्वारा इस स्थान को बहुत शुभ माना जाता है, क्योंकि वे यह मानते हैं कि भगवान कबलीस्वरार के कारण ही शहर में शान्ति और समृद्धि रहती है।

  • इस मन्दिर की कई विशेषताएँ हैं। एक अकेली वेदी में एक सौ आठ शिवलिंग तराशे गये हैं।
  • अरूद्र कबलीस्वरार मन्दिर तमिलनाडु राज्य के पवित्र शहर इरोड में स्थित है। यह तमिलनाडु का सबसे पहला मन्दिर माना जाता है।
  • स्थानीय लोगों की यह मान्यता है कि इष्टदेव के चेहरे पर सूर्य की किरणें पड़ने के साथ ही यहाँ उत्सव का आयोजन होता है। सूर्य की किरणें हमेशा मण्डप के अगले हिस्से में ही पड़ती हैं।[1]
  • इसके अलावा 'महाशिवरात्रि' को भी पूर्ण रूप से मन्दिर परिसर में मनाया जाता है।
  • एक मान्यता यह भी है कि जो लोग यहाँ मनोकामना करते हैं, वह अवश्य पूरी होती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पेरिअमरियम्मन मन्दिर, इरोड (हिन्दी) नेटिव प्लेनेट। अभिगमन तिथि: 08 जनवरी, 2015।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अरूद्र_कबलीस्वरार_मन्दिर&oldid=571717" से लिया गया