आरू  

आरू आस्ट्रेलिया और न्यूगिनी के बीच उथले आरागुरा समुद्र में द्वीपों का एक समूह है। यह तनवेसर नामक एक बड़े द्वीप तथा 90 छोटे-छोटे द्वीपों को मिलकार बना है। ये द्वीप 5° 18' दक्षिणी अक्षांश से 7° 5' दक्षिणी अक्षांश और 13° पूर्वी देशांतर से 135° पूर्वी देशांतर के बीच स्थित हैं। इन द्वीपों का क्षेत्रफल 3,244 वर्ग मील है। बनवेसर तीन संकरी शाखाओं द्वारा बंटा हुआ है। सभी द्वीपों की ऊँचाई कम है। ये द्वीप मूंग के बने हैं और जंगलों से ढंके हैं। तटीय भाग दलदली है। यहाँ की वनस्पति मुख्यत: केतकी (स्क्रू पाइन), नारियल और ताड़ के पेड़ हैं। यहाँ की उपज साबूदाना, नारियल, ईख, मक्का, तंबाकू तथा सुपारी है। यहाँ पर मोती निकालना तथा शार्क मछली का शिकार भी मुख्य पेशे हैं। इस द्वीपसमूह का पता 1606 ई. में डच लोगों को लगा और 1623 ई. में इस पर उन लोगों का अधिकार हो गया। यह सन्‌ 1947 ई. के चेरीलून समझौते के अनुसार इंडोनेशिया के अधिकार में आ गया है। यहाँ की राजधानी तथा बंदरगाह डोबो है।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 424 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आरू&oldid=631006" से लिया गया