एड्रियाटिक सागर  

एड्रियाटिक सागर यह रूम सागर की एक भुजा है, जो इटली को बालकन प्रायद्वीप से अलग करती है। यह एपीनाइन पर्वत और दिनारिक आल्प्‌स के मध्य स्थित एक प्रावनत भूमि है। इसकी लंबाई (उत्तर-पश्चिम से दक्षिण-पूर्व) 500 मील और औसत चौड़ाई 110 मील है। इस सागर का इटलीवाला किनारा सामान्यत: निचला है और उत्तर-पश्चिम की ओर पो नदी के डेल्टा के दलदल और उप्ह्रद (Zagoon) प्रदेश में विलीन हो जाता है। पो नदी का मैदान, संरचना की दृष्टि से, एड्रियाटिक का ही प्रसारित भाग है। इस सागर का पूर्वी किनारा, या डलमेशियन तट, साधारणत: ऊँचा नीचा है और इसके समांतर छोटी छोटी कटानें (inlets) और कुछ दूर पर लंबे सँकरे पहाड़ी द्वीप तट के समांतर स्थित हैं। उत्तर-पश्चिम से दक्षिण-पूर्व दिशा में फैली हुई पर्वतश्रेणियों के निमज्जन से लंबी घाटियों ने कटान का रूप धारण कर लिया है और जलमग्न पर्वतशिखर चट्टानी द्वीप बन गए हैं। इटली के समुद्रतट पर सुरक्षित बंदरगाह का अभाव है जब कि डलमेशियन समुद्रतट पर सुरक्षित कटानों की उपस्थिति के कारण बंदरगाहों की अधिकता है।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 2 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 237 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=एड्रियाटिक_सागर&oldid=632924" से लिया गया