सुरा सागर  

'एते द्वीपा: समुद्रैस्तु सप्तसप्तभिरावृत्ता: लवणेक्षु सुरासर्पिदधिदुग्धजलै: समम्'-[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

माथुर, विजयेन्द्र कुमार ऐतिहासिक स्थानावली, द्वितीय संस्करण-1990 (हिन्दी), भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर, पृष्ठ संख्या-977।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णु पुराण 2,2,6,।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सुरा_सागर&oldid=220189" से लिया गया