सप्त सागर  

सप्त सागर हिन्दू पौराणिक ग्रंथ विष्णुपुराण में वर्णित सात सागरों को कहा गया है। विष्णूपुराण के वर्णन में पृथ्वी सात द्वीपों में बंटी हुई है। ये सातों द्वीप चारों ओर से क्रमशः लवण, क्षीर, सुरा, घृत, इक्षु, दधि एवं स्वादु (मीठा जल) के सात समुद्रों से घिरे हैं।

  • सभी द्वीप एक के बाद एक दूसरे को घेरे हुए हैं और इन्हें घेरे हुए सातों समुद्र हैं।
  • जम्बु द्वीप इन सब द्वीपों के मध्य में स्थित है।
  • सप्त सागर इस प्रकार से हैं-
  1. लवण का सागर
  2. इक्षुरस का सागर
  3. सुरा का सागर
  4. घृत का सागर
  5. दधि का सागर
  6. क्षीर का सागर
  7. मीठे जल का सागर


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सप्त_सागर&oldid=504374" से लिया गया