रत्नाकर (समुद्र)  

Disamb2.jpg रत्नाकर एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- रत्नाकर

रत्नाकर भारत और लंका के बीच का समुद्र, जो प्राचीन काल से ही सुंदर रत्नों विशेषतः मोतियों के लिए प्रसिद्ध है।

'रत्नाकरं वीक्ष्य मिथः स जायां रामाभिधानो हरिरित्युवाच।'
  • कालीदास के 'रघुवंश'[2] में इस समुद्र के तट पर सीपियों से भिन्न हुए मोतियों[3] का वर्णन है।[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. रघुवंश 13, 1
  2. रघुवंश 13, 17
  3. पर्यस्तमूक्तापटल
  4. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 776 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रत्नाकर_(समुद्र)&oldid=516155" से लिया गया