स्वादु सागर  

कूर्म पुराण के अनुसार पुष्कर से थोड़ी दूर पर 'स्वादु जल' का सागर है, उससे दूर एक समतल तथा स्वर्ण वाली भूमि दिखलायी पड़ती है। इसके थोड़ी ही दूर पर स्थित है मर्यादा भानुमण्डल नाम का पर्वत, जिसे लोका लोक तथा प्रकाशा प्रकाश नाम से भी पुकारा जाता है। इस पर्वत की ऊंचाई दस हज़ार योजन है और इसका विस्तार भी इतना ही है। इस पर्वत ने मानसोत्तर पर्वत को घेर रखा है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कूर्म पुराण, पृष्ठ- 80 (हिंदी)। । अभिगमन तिथि: 22 अप्रॅल, 2012।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=स्वादु_सागर&oldid=272677" से लिया गया