ख़याल  

ख़याल या ख़्याल हिंदूस्तानी संगीत में, हिंदी गीत पर आधारित दो हिस्सों वाली संगीत शैली है, जो रागात्मक एवं लयात्मक आशु गायन के विस्तारित चक्रों के बीच पुनरावृत्त होती है।

  • मानक प्रदर्शन में एक ही राग में एक विलंबित (धीमा) ख़याल के बाद एक द्रुत (तेज) ख़याल आता है।
  • ख़याल की ध्रुपद लंबी रागात्मक शैली से संबद्ध है, लेकिन इसमें कम प्रतिबंध हैं।
  • इसके साथ विविध तालों में तबला एवं तानपुरा संगत करते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ख़याल&oldid=613997" से लिया गया