चोलबाड़ी  

चोलबाड़ी प्राचीन समय में चोल प्रदेश का एक भाग था। चोलों का यह प्रदेश आन्ध्र प्रदेश में स्थित था। प्राचीन समय में इस भू-भाग के उत्तर में मूसी नदी, जो कि हैदराबाद के निकट प्रवाहित होती थी, और दक्षिण में कृष्णा नदी इसकी स्वाभाविक सीमाएँ बनाती थीं।[1]

  • यह भाग पानगल, वर्तमान महबूबनगर और नालगौड़ा ज़िलों से मिलकर बनता था।
  • यहाँ पर चोलों का उत्कर्ष काल 480 ई. से आरंभ होता है।
  • वारंगल राज्य की अवनति होने पर 14वीं शती में बहमनी सुलतानों का यहाँ आधिपत्य हो गया था।
  • बहमनी राज्य की अवनति के पश्चात् महबूबनगर ज़िले का एक भाग क़ुतुबशाही और दूसरा बीजापुर के सुलतानों ने अपने राज्य में मिला लिया।
  • 1686 ई. के पश्चात् यहाँ मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब का प्रभुत्व स्थापित हुआ और तत्पश्चात् यह प्रदेश 18वीं शती में हैदराबाद के निज़ाम के राज्य में मिला लिया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 346 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चोलबाड़ी&oldid=595556" से लिया गया