पिलाजी गायकवाड़  

  • पिलाजी गायकवाड़ (1721-1732 ई.) दामाजी गायकवाड़ प्रथम का भतीजा था।
  • मराठा साम्राज्य में पिलाजी गायकवाड़ बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता था।
  • भले ही दामाजी गायकवाड़ प्रथम, गायकवाड़ वंश का संस्थापक था, किंतु इस वंश ने पिलाजी गायकवाड़ के समय में ही प्रसिद्धि प्राप्त की थी।
  • पिलाजी छत्रपति शिवाजी के पौत्र राजा साहू के सेनापति खाण्डेराव दाभाड़े के गुट में सम्मिलित था।
  • पिलाजी गायकवाड़ ने 1720 ई. में सूरत से 50 मील की दूरी पर सौनगढ़ में एक दुर्ग का निर्माण करवाया था।
  • 1731 ई. में पिलाजी ने बिल्हापुर के युद्ध में खाण्डेराव के पुत्र त्र्यम्बकराव दाभाड़े की ओर से युद्ध किया था।
  • इस युद्ध में त्र्यम्बकराव दाभाड़े की मृत्यु हो जाने के कारण पिलाजी को पेशवा बाजीराव प्रथम के साथ सन्धि करनी पड़ी।
  • बाजीराव प्रथम ने पिलाजी को गुजरात पर निगाह रखने को कहा।
  • बाद में पिलाजी ने बड़ौदा को अपना मुख्य कार्य क्षेत्र बनाया।
  • पिलाजी गायकवाड़ की 1732 ई. में हत्या कर दी गई।
  • उसकी मृत्यु के बाद उसका पुत्र दामाजी गायकवाड़ द्वितीय उत्तराधिकारी बना।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पिलाजी_गायकवाड़&oldid=227786" से लिया गया