लखजी जाधव  

लखजी जाधव एक प्रमुख मराठा सरदार था। मुग़लों के साथ षड़यंत्र करने का आरोप लगाकर कपटता से उसकी हत्या कर दी गई थी।

  • लखजी जाधव बादशाह जहाँगीर के समय में मुग़लों के साथ मिल गया था, लेकिन बाद में वह निज़ामशाही की सेवा में चला गया।
  • जब जाधव की हत्या कर दी गई तो इसके परिणामस्वरूप उसका दामाद शाहजी भोंसले (शिवाजी का पिता) अपने सम्बन्धियों के साथ मुग़लों के साथ मिल गया।
  • शाहजहाँ ने उसे 'पंचहज़ारी' का मनसब दिया और उसे पूना क्षेत्र में जागीर दी। इससे कई और महत्त्वपूर्ण मराठा सरदार भी शाहजहाँ के पक्ष में हो गये।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=लखजी_जाधव&oldid=323360" से लिया गया