मिश्रिख  

मिश्रिख उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित प्राचीन तीर्थस्थल है। मिश्रिख स्टेशन नैमिषारण्य से पाँच मील दूर है। यहाँ से यह तीर्थ एक मील की दूरी पर है।

  • यहाँ दधीचि कुण्ड है। कहा जाता है कि यहीं महर्षि दधीचि का आश्रम था।
  • वृत्रासुर के वध के लिए जब इंद्र ने उनसे उनके शरीर की हड्डियाँ मांगी तो उन्होंने योग के द्वारा देह त्याग दिया।
  • दधीचि कुण्ड में सब तीर्थों का जल देवताओं ने मिश्रित किया था, अतः इसका नाम मिश्रिख हो गया।
  • कुंड के समीप दधीचि ऋषि का मंदिर है[1]



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दूओं के तीर्थ स्थान |लेखक: सुदर्शन सिंह 'चक्र' |पृष्ठ संख्या: 43 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मिश्रिख&oldid=570315" से लिया गया