मुम्बई का जनजीवन  


मुम्बई का जनजीवन
मुम्बई का एक दृश्य
विवरण मुम्बई महाराष्ट्र राज्य की राजधानी है। मुम्बई को भारत का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है।
राज्य महाराष्ट्र
ज़िला मुम्बई
स्थापना तीसरी शताब्दी ई. पू में सम्राट अशोक द्वारा स्थापित
भौगोलिक स्थिति उत्तर- 18°58′30″, पूर्व- 72°49′33″
मार्ग स्थिति मुम्बई शहर सड़क द्वारा पुणे से 150 किमी, नासिक से 172 किमी, नागपुर से 847 किमी और दिल्ली से 1,398 किमी की दूरी पर स्थित है।
प्रसिद्धि गेटवे ऑफ इंडिया, होटल ताज, एलिफेंटा की गुफाएँ, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, जुहू चौपाटी आदि।
कब जाएँ अक्टूबर से मार्च
कैसे पहुँचें जलयान, हवाई जहाज़, रेल, बस आदि से पहुँचा जा सकता है।
हवाई अड्डा छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, नवी मुंबई अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, जुहू हवाई अड्डा
रेलवे स्टेशन छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, लोकमान्य तिलक टर्मिनस रेलवे स्टेशन, मुंबई सेंट्रल, मुंबई उपनगरीय रेलवे, दादर स्टेशन, विक्टोरिया रेलवे स्टेशन
बस अड्डा राज्य परिवहन टर्मिनल
यातायात साइकिल-रिक्शा, ऑटो-रिक्शा, टैक्सी, सिटी बस और मेट्रो रेल
क्या देखें मुम्बई पर्यटन
कहाँ ठहरें होटल, धर्मशाला, अतिथि ग्रह
क्या खायें वड़ा पाव, श्रीखंड, भेलपूरी, पूरन पोली, पोहा, साबूदाना वड़ा, फिरनी, मालपुआ, कटिंग चाय आदि
एस.टी.डी. कोड 022
ए.टी.एम लगभग सभी
Map-icon.gif गूगल मानचित्र
भाषा मराठी, हिन्दी, अंग्रेज़ी और गुजराती
अद्यतन‎
मुम्बई दुनिया के विशालतम व सबसे घनी आबादी वाले शहरों में से एक है। 1940 के दशक से मुम्बई का विकास असाधारण तो नहीं, लेकिन एक समान रहा है। 20वीं सदी की शुरुआत में यहाँ की जनसंख्या 8 लाख 50 हज़ार थी। 1941 में यह दुगुनी होकर 16 लाख 95 हज़ार हो गई है। परिवार नियोजन कार्यक्रमों के कारण इस शहर में जन्मदर देश के अन्य हिस्सों से काफ़ी कम है और जनसंख्या विकास की ऊँची दर का मुख्य कारण रोज़गार की खोज में यहाँ आने वाले लोग हैं। मुम्बई विश्व की सबसे अधिक सघन आबादी वाले क्षेत्रों में से एक है। 1981 में ग्रेटर मुम्बई का औसत घनत्व 13,500 लोग प्रति वर्ग किमी था। शहर के अधिकांश पुराने हिस्सों में घनत्व इस औसत से लगभग तीन गुना अधिक था, हालाँकि पश्च खाड़ी के पास स्थित गिरगांव, भिंडी बाज़ार और भुलेश्वर में घनत्व कम है। नगर के कुछ भीतरी हिस्सों में घनत्व लगभग 3,86,100 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है, जो शायद दुनिया का अधिकतम घनत्व है।

मुम्बई का चरित्र सही मायनों में महानगरीय है और यहाँ लगभग सभी धर्मों तथा विश्व के सभी क्षेत्रों के लोग रहते हैं। यहाँ की लगभग आधी आबादी हिंदुओं की है, लेकिन इस्लाम, ईसाई, बौद्ध, जैन, सिक्ख, पारसी और यहूदी धर्म के लोग भी यहाँ मौजूद हैं। मुम्बई में लगभग सभी भारतीय भाषाएँ और कई विदेशी भाषाएँ बोली जाती हैं। राजकीय भाषा मराठी प्रमुख स्थानीय भाषा है, इसके बाद गुजराती और हिन्दी का स्थान है।

ख़रीददारी

मुम्बई में ख़रीददारी करना एक यादगार अनुभव हो सकता है। यहाँ लगने वाले बाज़ारों में चोर बाज़ार, मटन स्ट्रीट और जावरी बाज़ार प्रसिद्ध है। चोर बाज़ार से असाधारण से प्राचीन, आभूषण, लकड़ी की वस्तुएं, चमड़े का सामान और सामान्य छोटी-मोटी वस्तुएं आसानी से मिल जाएगी। क्रोफोर्ड बाज़ार फूलों, फल, मीट और मछली के लिए प्रसिद्ध है। वहीं जावरी बाज़ार से सस्‍ते दामों में आभूषण ख़रीदे जा सकते हैं। रंगीन और नव-निर्माण ग़लीचे के लिए मेयरवेदर मार्ग, ताज महल होटल के पीछे जा सकते हैं। लेकिन यहाँ मिलने वाले गालीचों की कीमत बहुत अधिक है। कपड़ों की ख़रीददारी के लिए सेंट्रल कॉटेज इंडस्टरी इम्पोरियम (अपोलो बंडर) और खादी विलेज इंडस्टरी इम्पोरियम (डी.एन.रोड़) जा सकते हैं। यहाँ बिल्कुल निश्चित कीमत पर कपड़े मिलते हैं। लेकिन यहां मिलने वाले कपड़े बेहतरीन किस्म के होते हैं। ग्लैमरस चीज़ों की ख़रीद के लिए कीम्स कॉर्नर, वार्डन रोड़, ब्रीच केंडी और नेपिन सी रोड़ सबसे बेहतरीन जगहों में से है। इसके अलावा इत्र, कशीदा और जरी के काम वो भी हाथ से बने हुए चीज़ों के लिए प्रसिद्ध मोहम्मद अली रोड़ में बहुत सारी दुकानें है। मुम्बई 20 में विभिन्न डिजाइनरों जैसे हूगो बॉस, पिरी कार्डिन, अरमानी, पोलो स्पोर्ट और अन्य बहुत से डिजाइनरों के ब्रांड यहाँ मिल जाएंगे।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मुम्बई (हिन्दी) (ए.एस.पी) यात्रा सलाह डॉट कॉम। अभिगमन तिथि: 25 मार्च, 2011

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुम्बई_का_जनजीवन&oldid=563668" से लिया गया