वृश्चिक राशि  

बिच्छू, राशि चिह्न

वृश्चिक राशि (अंग्रेज़ी: Scorpio) राशि चक्र की आठवीं राशि है। इस राशि का चिह्न बिच्छू (वृश्चिक) है। सूर्य के क्रांतिपथ में इसका स्थान तुला और धनु राशि के बीच है। इसका देशान्तरीय विस्तार लगभग 15. 8 से 18.0 घंटा है। वृश्चिक राशि का अक्षांशीय विस्तार 10 से 45 डिग्री दक्षिण में है।

राशि स्वामी- मंगल
शुभ रत्न- मूंगा
अक्षर- तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू

गुण

  • वृश्चिक राशि के जातकों को वीर, साहसी एवं योद्धा के रूप में जाना जाता है।
  • यह राशि कठोर मानी जाती है।
  • इस राशि का विशेष गुण है जो भी लक्ष्य हो उसे किसी भी हाल में प्राप्त करना।
  • इनमें सीखने की इच्छा बलवती होती है। इसलिए विषयों को जानने समझने के लिए धैर्य और शांतिपूर्वक ध्यान केन्द्रित रखते हैं।
  • इस राशि का दूसरा पहलू है चालाकी और होशियारी। अपना काम निकलते ही पल्ला झाड़ना भी इन्हें खूब आता है।
  • विपरीत लिंग वाले व्यक्ति के प्रति इनका व्यवहार रूखा होता है।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वृश्चिक_राशि&oldid=310945" से लिया गया