सुमन कल्याणपुर को पुरस्कार  

सुमन कल्याणपुर विषय सूची
सुमन कल्याणपुर को पुरस्कार
Suman-Kalyanpur.jpg
पूरा नाम सुमन कल्याणपुर
जन्म 28 जनवरी, 1937
जन्म भूमि ढाका
अभिभावक शंकर राव हेमाडी
पति/पत्नी रामानंद कल्याणपुर
कर्म भूमि मुम्बई
कर्म-क्षेत्र फ़िल्म संगीत (पार्श्वगायिका)
विषय भारतीय शास्त्रीय संगीत, लोक संगीत, भजन, गज़ल
पुरस्कार-उपाधि दादा साहब फाल्के पुरस्कार
नागरिकता भारतीय
मुख्य गीत इक जुर्म करके हमने चाहा था मुस्कुराना, परबतों के पेड़ों पर, ये मौसम रंगीन समां, आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे हर जुबान पर
अन्य जानकारी करीब 28 साल के अपने करियर में सुमन कल्याणपुर ने पार्श्वगायन के क्षेत्र में अपना एक सम्मानजनक स्थान बनाया।
अद्यतन‎

सुमन कल्याणपुर हिन्दी सिनेमा की मशहूर गायिका है। पुराने जमाने के उनके गीत आज भी काफ़ी मशहूर है। इनमें ना तुम जानों न हम, दिल गम से जल रहा है, मेरे संग गा, मेरे महबूब न जा, जो हम पे गुजरती है, बहना ने भाई की कलाई में, आदि कई गाने काफ़ी हिट हो चुके हैं।[1]

पुरस्कार

सुमन करीब 28 साल के अपने करियर में सुमन कल्याणपुर ने न सिर्फ पार्श्वगायन के क्षेत्र में अपना एक सम्मानजनक स्थान बनाया बल्कि रसरंग (नासिक) का 'फाल्के पुरस्कार' (1961), सुर सिंगार संसद का 'मियां तानसेन पुरस्कार' (1965 और 1970), 'महाराष्ट्र राय फ़िल्म पुरस्कार' (1965 और 1966), 'गुजरात राय फ़िल्म पुरस्कार' (1970 से 1973 तक लगातार) जैसे करीब एक दर्जन पुरस्कार भी हासिल किए। करीब 5 साल पहले सुमन के पति का निधन हुआ था और अब वो खार (पश्चिम) में ही रोड नंबर 12 पर अपनी शादीशुदा बेटी चारू अग्नि के साथ रहती हैं। इस दौरान वो साल 2010 में एक-दो सम्मान समारोहों में ज़रूर नजर आयीं जब महाराष्ट्र सरकार ने उन्हें 'लता मंगेशकर पुरस्कार - 2009' से सम्मानित किया। लेकिन बाहरी लोगों से उनका सम्पर्क अब लगभग खत्म हो चुका है। यहाँ तक कि अब उन्हें किसी से फोन पर बात करना भी मंजूर नहीं है।[2]

सुमन के लोकप्रिय गीत

  • इतने बड़े जहां में अपना भी कोई होता (डार्क स्ट्रीट)
  • इक जुर्म करके हमने चाहा था मुस्कुराना (शमा)
  • जूही की कली मेरी लाड़ली (दिल एक मंदिर)
  • अपने पिया की मैं तो बनी रे जोगनियां (कण कण में भगवान)
  • तुझे प्यार करते हैं करते रहेंगे (अप्रैल फूल)
  • हाले-दिल उनको सुनाना था (फरियाद)
  • परबतों के पेड़ों पर (शगुन)
  • ना-ना करते प्यार तुम्ही से कर बैठे (जब-जब फूल खिले)
  • ठहरिये होश में आ लूं, तो चले जाइएगा (मोहब्बत इसको कहते हैं)
  • ये मौसम रंगीन समां (मॉडर्न गर्ल)
  • बहना ने भाई की कलाई से प्यार बांधा है (रेशम की डोरी)[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मुझसे छीना गया था 'ए मेरे वतन के लोगों' : सुमन कल्याणपुर (हिन्दी) bhaskar.com। अभिगमन तिथि: 21 जून, 2017
  2. सुमन कल्याणपुर (हिन्दी) facebook.com। अभिगमन तिथि: 21 जून, 2017
  3. सुमन कल्याणपुर : इक जुर्म करके हमने चाहा था मुस्कुराना.... (हिन्दी) webdunia.com। अभिगमन तिथि: 21 जून, 2017

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

सुमन कल्याणपुर विषय सूची

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सुमन_कल्याणपुर_को_पुरस्कार&oldid=616620" से लिया गया