पेशवा  

पेशवा
शिवाजी
विवरण पेशवा मराठा साम्राज्य में राजा के सलाहकार को कहा जाता था। पेशवा का पद मूलरूप से शिवाजी द्वारा नियुक्त अष्टप्रधानों में से एक था।
मराठा पेशवा बालाजी विश्वनाथ - 1713-1720 ई.

बाजीराव प्रथम - 1720-1740 ई.
बालाजी बाजीराव - 1740-1761 ई.
माधवराव प्रथम - 1761-1772 ई.
नारायणराव - 1772-1773 ई.
रघुनाथराव - 1773-1774 ई.
माधवराव द्वितीय - 1774-1795 ई.
बाजीराव द्वितीय - 1796-1818 ई.

विशेष मराठा साम्राज्य में पेशवा का पद पहले वंशगत नहीं था, लेकिन बालाजी बाजीराव ने 1749 ई. में महाराज शाहू की मृत्यु के बाद पेशवा पद को वंशागत बना दिया था।
संबंधित लेख शिवाजी, शाहजी भोंसले, जीजाबाई, शम्भाजी, शाहू, ताराबाई, नाना फड़नवीस, मराठा साम्राज्य, मराठा,
अन्य जानकारी शाहू के राज्यकाल में बालाजी विश्वनाथ ने इस पद का महत्त्व बहुत अधिक बढ़ा दिया था। वह 1713 ई. में पेशवा नियुक्त हुआ और 1720 ई. में मृत्यु होने तक इस पद पर बना रहा।

पेशवा का पद मूलरूप से शिवाजी द्वारा नियुक्त अष्टप्रधानों में से एक था। पेशवा को 'मुख्य प्रधान' भी कहते थे। उसका कार्य सामान्य रीति से प्रजाहित पर ध्यान रखना था। मराठा साम्राज्य में पेशवा का पद पहले वंशगत नहीं था, लेकिन बालाजी बाजीराव ने 1749 ई. में महाराज शाहू की मृत्यु के बाद पेशवा पद को वंशागत बना दिया था। बालाजी बाजीराव ने इस पद को मराठा साम्राज्य में सर्वोच्च स्थान का दर्जा दिलवाया था।

पेशवा पद का महत्त्व

शाहू (1708-48 ई.) के राज्यकाल में बालाजी विश्वनाथ ने इस पद का महत्त्व बहुत अधिक बढ़ा दिया था। वह 1713 ई. में पेशवा नियुक्त हुआ और 1720 ई. में मृत्यु होने तक इस पद पर बना रहा। उसने सेनापति तथा राजनीतिज्ञ, दोनों ही रूपों में जो सफलता प्राप्त की, उससे दूसरे प्रधानों की अपेक्षा पेशवा के पद की मर्यादा बहुत ही बढ़ गई। 1720 ई. में उसकी मृत्यु के बाद उसका पुत्र बाजीराव प्रथम पेशवा नियुक्त हुआ। तब से यह पद बालाजी का एक प्रकार से ख़ानदानी हक़ बन गया। बाजीराव प्रथम बीस साल (1720-40 ई.) तक पेशवा रहा और उसने निज़ाम पर विजय प्राप्त करके तथा उत्तरी भारत में विजय यात्राएँ करके पेशवा के पद का महत्त्व और भी बढ़ा दिया। उसकी उत्तरी भारत की विजय यात्राओं के फलस्वरूप मालवा, गुजरात तथा मध्य भारत में मराठा राज्यशक्ति स्थापित हो गई तथा मराठा संघ की शक्ति बहुत बढ़ गई। मराठा संघ में शिन्दे, होल्कर, गायकवाड़ तथा भोंसले सम्मिलित थे।

1740 ई. में बाजीराव प्रथम की मृत्यु होने पर उसका पुत्र बालाजी बाजीराव पेशवा बना। 1749 ई. में महाराज शाहू की नि:संतान ही मृत्यु हो गई। इसके फलस्वरूप पेशवा का पद वंशगत होने के साथ ही मराठा राज्य में सर्वोच्च मान लिया गया। पेशवा मराठा राज्य की राजधानी सतारा से हटाकर पूना ले गया और राज्य का वास्तविक इतिहास पेशवाओं के इतिहास से सम्पृक्त हो गया।

मराठा राज्य की क्षति

बालाजी बाजीराव ने 1740 से 1761 ई. तक शासन किया और वह इतना शक्तिशाली हो गया, कि मुग़ल बादशाह आलमगीर द्वितीय (1754-59 ई.) और शाहआलम द्वितीय (1759-1806 ई.) अहमदशाह अब्दाली के हमले से अपनी रक्षा करने के लिए उस पर आश्रित रहे। बालाजी बाजीराव के पिता ने हिन्दू पद पादशाही की स्थापना अपना उद्देश्य बनाया था। परन्तु उसने पिता की इस नीति का त्याग कर मुग़ल साम्राज्य के स्थान पर मराठा साम्राज्य की स्थापना करना अपना उद्देश्य बना लिया और हिन्दू तथा मुसलमान राज्यों को समान रूप से लूटना आरम्भ कर दिया। इसके फलस्वरूप महाराष्ट्र के बाहर के सभी प्रदेशों के लोगों की सहानुभूति वह खो बैठा। 1761 ई. में अब्दाली की सेना से उसकी ज़बरदस्त हार का कारण यह भी एक था। इस लड़ाई में मराठों को भयंकर क्षति उठानी पड़ी और उसका परिणाम उनके लिए अत्यन्त ही घातक सिद्ध हुआ। इस लड़ाई के छ: महीने के बाद ही पेशवा बालाजी बाजीराव शोकाभिभूत होकर मर गया।


इन्हें भी देखें: मराठा साम्राज्य एवं मराठा

मराठा शक्ति का पतन

बालाजी बाजीराव की मृत्यु के बाद पेशवाओं का और उनके साथ-साथ मराठा राज्यशक्ति का पतन आरम्भ हो गया। माधवराव प्रथम ने पानीपत की हार से मराठों को उभारने का भरपूर प्रयास किया। उसके इन्हीं प्रयासों से मराठा शक्ति एक बार फिर से बढ़ने लगी थी। ऐसा प्रतीत होता था कि पानीपत में जो कुछ भी मराठों ने खोया था, उससे कहीं अधिक उन्होंने प्राप्त कर लिया है। लेकिन अचानक ही माधवराव प्रथम की 1772 ई. में मृत्यु हो गई। अगला पेशवा नारायणराव (1772-73 ई.) में अपने चाचा राघोवा के संकेत पर मार डाला गया। उसके बाद 1773 ई. में कुछ समय के लिए राधोवा पेशवा रहा, परन्तु उसे विवश होकर पेशवाई नारायणराव की मृत्यु के बाद जन्मे उसके पुत्र माधवराव नारायण को सौंपनी पड़ी। माधवराव नारायण (अथवा माधवराव द्वितीय) 1774 ई. से 1795 ई. तक पेशवा रहा। परन्तु राधोवा पेशवा कुल कलंक साबित हुआ। अपनी स्वार्थपूर्ति के लिए उसने पेशवा को पहले अंग्रेज़-मराठा युद्ध में फँसा दिया, जो 1775- से 1782 ई. तक चलता रहा। इस युद्ध के फलस्वरूप मराठा संघ पर पेशवा का नियंत्रण और शिथिल पड़ गया।

नाना फड़नवीस की मृत्यु

नाना फड़नवीस इस समय पेशवा का प्रधान अमात्य था। उसकी नीतिकुशलता तथा योग्यता के कारण अगले 18 सालों तक दक्षिण में पेशवाओं की राज्यशक्ति अखण्डित रही, किन्तु उत्तर भारत में मराठा राज्यशक्ति स्थापित करने के सारे प्रयत्न त्याग दिये गये। 1800 ई. में नाना फड़नवीस की मृत्यु के साथ पेशवा को बुद्धिमत्तापूर्ण सलाह देने वाला कोई नहीं था।

बसई की संधि

1802 ई. में पेशवा बाजीराव द्वितीय ने, जो 1796 ई. में धोखेबाज़ी और चालाकी से पेशवा बना था, अपने मराठा सरदारों, विशेष रूप से मल्हारराव होल्कर और महादजी शिन्दे के चंगुल से अपने को बचाने के लिए बसई भाग गया, और वहाँ पर उसने अंग्रेज़ों के साथ स्वेच्छा से बसई की सन्धि कर ली। उसने अंग्रेज़ों की आश्रित सेना रखना स्वीकार करके एक प्रकार से अपनी स्वतंत्रता बेच दी। बाजीराव द्वितीय ने अंग्रेज़ों के साथ भी अपना वचन नहीं निभाया, जिससे अंग्रेज़ भी उसके दुश्मन हो गए। उसके साथ क़ायरतापूर्ण आचरण पर मराठा सरदारों में भारी आक्रोश उत्पन्न हो गया। फलस्वरूप दूसरा मराठा युद्ध (1803-05 ई.) आरम्भ हुआ, और मराठा राज्य शक्ति और मज़बूती से अंग्रेज़ों के फ़ौलादी पंजों में कस गई।

बाजीराव द्वितीय की मृत्यु

अंग्रेज़ों का जुआ अपने पर लाद लेने पर बाजीराव द्वितीय को शीघ्र ही पछतावा होने लगा था, कि उसने एक बहुत भारी ग़लती की है। उसके द्वारा उस जुए को उतार फेंकने की कोशिश करने पर तीसरा मराठा युद्ध (1817-19 ई.) छिड़ गया। इस युद्ध में कई लड़ाईयों में पेशवा की निर्णायात्मक हार हुई और उसे गद्दी से उतार दिया गया और पेशवाई समाप्त कर दी गई, फिर भी बाजीराव द्वितीय को 8 लाख रुपये की वार्षिक पेंशन पर कानपुर के निकट बिठूर जाकर रहने की इजाज़त दे दी गई। 1853 ई. में बिठूर में ही उसकी मृत्यु हो गई। अंग्रेज़ों ने उसके गोद लिये हुए लड़के नाना साहब को पेंशन देने से इन्कार कर दिया। इसके फलस्वरूप उसने प्रथम स्वाधीनता संग्राम में प्रमुख भाग लिया और अंत में पराजित हो गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पेशवा&oldid=552462" से लिया गया