लाल रंग  

लाल रंग को रक्त रंग भी कहा जाता है, इसका कारण रक्त का रंग लाल होना है। लाल वर्ण प्रकाश की सर्वाधिक लम्बी तरंग दैर्घ्य वाली रोशनी या प्रकाश किरण को कहते हैं। इसका तरंग दैर्घ्य लगभग 6200 Å से 7800 Å [1] तक तथा इसकी आवृति 3.75 - 4.84 होती है। इससे लम्बी तरंग को अधोरक्त कहते हैं, जो कि मानवीय चक्षु द्वारा दृश्य नहीं है। लाल रंग प्रकाश का संयोजी प्राथमिक रंग है, जो कि क्यान रंग का सम्पूरक है। लाल रंग RYB वर्ण व्योम में सब्ट्रेक्टिव प्राथमिक रंग है। वैज्ञानिक तत्व ऊष्माऊर्जा भी लाल रंग से जुड़ी है।

रंग आवृति विस्तार तरंगदैर्ध्य विस्तार
लाल 3.75 - 4.84 6200 Å से 7800 Å

धार्मिक मान्यता

मां लक्ष्मी को लाल रंग प्रिय है। दरअसल, लाल रंग हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। यह रंग हम सभी में आत्मविश्वास जगाता है। हम अपने आत्मविश्वास और मज़बूत इरादों के बल पर ही लक्ष्मी की प्राप्ति कर पाते हैं। लाल रंग सौभाग्य का प्रतीक है। माँ लक्ष्मी लाल वस्त्र पहनती हैं और लाल रंग के कमल पर शोभायमान रहती हैं। राम भक्त हनुमान को भी लाल रंग व सिंदूरी रंग प्रिय है। इसलिए भक्तगण उन्हें सिंदूर अर्पित करते हैं।[2]

रसायन

नारंगी रंग{संदर्भ ?} में हाइड्रोजन, ऑक्सीजन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, निकिल, ऐलुमिनियम, सोडियम, क्रोमियम, टाईटेनियम आदि गैसें उपस्थित होती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. Å=10-10 m = 10-8 cm = 10-1nm (nanometre
  2. जिंदल, मीता। देवताओं के प्रिय रंग जागरण याहू इंडिया। अभिगमन तिथि: 28, जुलाई।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः