अब वह बनी मुक्तधारा -दिनेश सिंह  

Icon-edit.gif यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक/लेखकों का है भारतकोश का नहीं।

स्वच्छंद नीले गगन में उड़ रही है मुक्ताहंसिनी
किसी के गीत की उपमा बनी थी जो अभी तक
प्रगति-पथ पर चली वो ज्योति पथ पर बिछाती
स्वच्छंद नीले गगन में उड़ रही है मुक्ताहंसिनी

अवहेलना जिसकी युगों से हुई थी
किसी की काम की कामना अब तक बनी थी
नवरूप अब लेकर जगी वो प्रेम की अनुगामिनी
स्वच्छंद नीले गगन में उड़ रही है मुक्ताहंसिनी

जिसके रूप का वर्णन नहीं कोई कर सका
कवि क्या शेष-नारद आदि नहीं कोई गा सका
हटाकर काम की मूरत को वह मुक्त धारा बनी
स्वच्छंद नीले गगन में उड़ रही है मुक्ताहंसिनी

दिया मद तोड़ जो कटीले तरु खड़े थे
बदल दी दृष्टि जग की जो कभी एकत्व थे
किया निर्माण निज नीड़ को वो अभिलाषनी
स्वच्छंद नीले गगन में उड़ रही है मुक्ताहंसिनी

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

स्वतंत्र लेखन वृक्ष

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अब_वह_बनी_मुक्तधारा_-दिनेश_सिंह&oldid=583065" से लिया गया