आज जब वह जा रही है -अजेय  

Icon-edit.gif यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक/लेखकों का है भारतकोश का नहीं।
आज जब वह जा रही है -अजेय
Ajey.JPG
कवि अजेय
जन्म स्थान (सुमनम, केलंग, हिमाचल प्रदेश)
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
अजेय की रचनाएँ
  • आज जब वह जा रही है -अजेय

वह जब थी
तो कुछ इस तरह थी
जैसे कोई भी बीमार बुढ़िया होती है
शहर के किसी भी घर में
अपने दिन गिनती

वह जब थी
इस शहर को
और इस घर को
नहीं था कोई सरोकार
कि अपनी पीड़ाओं और संघर्षों के साथ
वह कितनी अकेली थी

कहाँ शामिल था खुद मैं भी
उस तरह से
उस के होने में
जिस तरह से कि इस अंतिम यात्रा में हूँ ?

आज जब जा रही है वह
तो रो रहा है घर
स्तब्ध है शहर
खड़ा है कोई हाथ जोड़ कर
और कोई सरक गया है दुकान मे मुँह फेर कर

आज जब वह जा रही है
भीड़ ने रास्ता दे दिया है उसे सहम कर

भारी भरकम गाड़ियाँ गुर्राना छोड़
दो पल के लिए एक तरफ हो गई हैं
चौराहे पर उस वर्दी धारी सिपाही ने भी
अदब से सलाम ठोक दिया है !

आज जब वह जा रही है
तो लगने लगा है सहसा
मुझे
इस घर को
और पूरे शहर को
कि वह थी .......
वह थी
और अब नहीं रही !

21.06.2007



टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

स्वतंत्र लेखन वृक्ष

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आज_जब_वह_जा_रही_है_-अजेय&oldid=583142" से लिया गया