अहग्गार पठार  

अहग्गार पठार अफ्रीका के सहारा मरुस्थल के मध्य भाग में उत्तर पश्चिम से दक्षिणपूर्व को कर्णवत्‌ फैला हुआ है। यह[1] चट्टानों से बना हुआ है। यहाँ ज्वालामुखीय उत्पत्ति की कई चोटियाँ हैं जिनकी ऊँचाई 8,000 फुट से अधिक नहीं है। ये चोटियाँ समय-समय पर बर्फ से ढक जाती हैं। यहाँ की जलवायु ठंडी है तथा तुषार भी पर्याप्त पड़ता है। यहाँ की मुख्य वनस्पति एक प्रकार का बबूल[2] है। यहाँ के निवासी टारेग जाति के हैं। ये चरागाहों में अपने पशु चराते तथा बंजारों का जीवन व्यतीत करते हैं।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. आदिकल्प-पुराकल्प
  2. अकेसिया टारटिला
  3. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 317 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अहग्गार_पठार&oldid=630269" से लिया गया