परमार्थ निकेतन आश्रम  

परमार्थ निकेतन आश्रम, ऋषिकेश

परमार्थ निकेतन आश्रम ऋषिकेश में गंगा नदी के किनारे पर स्थित है।

  • परमार्थ निकेतन आश्रम को स्वामी सुखदेवानंदजी महाराज ने सन् 1942 में स्थापित किया था और बाद में स्वामी चिदानन्द सरस्वती इस आश्रम के संस्थापक अध्यक्ष चुने गए।
  • परमार्थ निकेतन आश्रम अनाथ और ग़रीब बच्चों के लिए बनाया गया है, यहाँ बच्चों को पारम्परिक शिक्षा के साथ ही वेदों की शिक्षा भी दी जाती है।
  • परमार्थ निकेतन की गंगा आरती बेहद प्रसिद्ध है। ठंडी बहती हवा के बीच हजारों दीपकों की झिलमिलाती रोशनी को देखना अद्भुत अनुभव है।
  • परमार्थ निकेतन आश्रम के भीतर प्रवेश करते ही बायीं ओर बड़ी सुन्दर मूर्तियाँ हैं जो पौराणिक कथाओं के आधार पर बनाई गई हैं और दायीं ओर देवताओं की विशाल मूर्तियों का परावर्तित प्रतिबिम्ब है उनके चारों ओर लगे दर्पणों में देखकर मन हर्षित हो उठता है।
  • परमार्थ निकेतन आश्रम में दैनिक गतिविधियों सुबह सार्वभौमिक प्रार्थना, दैनिक योग और ध्यान की कक्षाओं, दैनिक सत्संग और व्याख्यान कार्यक्रम, कीर्तन, सूर्यास्त में एक विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती, के रूप में अच्छी तरह से प्राकृतिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक उपचार और प्रशिक्षण शामिल हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=परमार्थ_निकेतन_आश्रम&oldid=622633" से लिया गया