मेघालय की कृषि  

  • मेघालय प्रधानत: कृषि प्रधान राज्‍य है।
  • यहाँ की लगभग 80 प्रतिशत जनसंख्‍या मुख्‍य रूप से खेती पर ही निर्भर है।
  • यहाँ की मिट्टी और जलवायु बाग़वानी के अनुकूल है।
  • शीतोष्‍ण, उष्णोष्‍ण और उष्‍ण कटिबंधिय फलों और सब्जियों के उत्‍पादन की भी यहाँ पर अपार संभावनाएं हैं।
  • यहाँ की मुख्‍य फ़सलें चावल और मक्‍का हैं।
  • इनके अतिरिक्‍त संतरे (खासी मेंडेरियन), अनान्‍नास, केला, कटहल और आलूबुखारा, नाशपाती तथा आड़ू जैसे शीतोष्‍ण फलों के लिए प्रसिद्ध है।
  • नकदी फ़सलों में आलू, हल्‍दी, अदरक, काली मिर्च, सुपारी, पान टैपियोका, छोटे रेशे वाली कपास, पटसन और मेस्‍टा, सरसों और तोरिया हैं।
  • इस समय तिलहनों (मूँगफली, सोयाबीन और सूरजमुखी), काजू, स्‍ट्रॉबरी, चाय और कॉफी, मशरूम, जड़ी-बूटियों, ऑर्किड आदि फूलों की खेती पर मुख्य रूप से ध्‍यान केंद्रित किया जा रहा है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मेघालय_की_कृषि&oldid=271873" से लिया गया