अल बलाजुरी  

अल बलाजुरी अहमद बिन हिया बिन जाबिर अल बलाजुरी। जन्मतिथि अज्ञात; मृत्यु 892 ई.। प्रसिद्ध मुसलमान इतिहासकार। खलीफ़ा मुतवक्किल का मित्र। जनश्रुति के अनुसार 'बलाजुरी' फल (भिलावा) का रस भूल से पी लेने से मरे। किंतु यह निश्चय नहीं है कि यह घटना उनके दादा से संबंधित है या स्वयं उन्हीं से। तात्पर्य यह है कि बलाजुरी के जीवन का वृतांत बहुत कुछ अज्ञात है। वह फारसी के प्रकांड पंडित थे और फारसी ग्रंथों के अरबी में अनुवादक नियुक्त किए गए थे। शायद इसी कारण उन्हें अरबी न मानकर फारसी या ईरानी माना गया है। किंतु उनके पितामह मिस्र की खिलाफत में उच्च पदाधिकारी थे। बलाजुरी की शिक्षा दमिश्क, अमीसा तथा ईराक में हुई थी। इब्नसाद उनके गुरु थे।[1]

बलाजुरी के लिखे दो बृहत्‌ ग्रंथ हैं: (1) फुतूह-उल-बल्दान, देगेज द्वारा संपादित तथा 1866 ई. में लाइडन से प्रकाशित, द्वितीय प्रकाशन कैरो से 1318 हि.(1900ई.) में। इस ग्रंथ में मुहम्मद और यहूदी लोगों के युद्ध से आरंभ करके उनके अन्य सामरिक कृत्यों तथा सीरिया, मिस्र और आरमीनिया आदि की विजय का इतिहास वार्णित है। जहाँ तहाँ ऐसे स्थल भी बिखरे पड़े हैं जिनसे तत्कालीन सांस्कृतिक सवं सामाजिक दशा पर प्रकाश पड़ता है। राजनीतिक शब्दावली तथा संस्थाओं, राजकर, मुद्रा तथा शासन संबंधी अन्य बातों के भी बहुमूल्य उल्लेख इस पुस्तक में पाए जाते हैं। अरब राजनीतिक इतिहास पर यह एक अत्यंत मूल्यवान एवं प्रामाणिक ग्रंथ हैं। (2) बलाजुरी का दूसरा ग्रंथ है 'अन्साब-अल-अशराफ'-इस ग्रंथ के लेखक ने बड़ी बृहदाकार योजना बनाई थी, पर वह उसे पूरा न कर पाया। इसमें अरबों का वंशानुगत इतिहास दिया गया है।[2]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 254 |
  2. सं.ग्रं.-एनसाइक्लोपीडिया ऑव इस्लाम।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अल_बलाजुरी&oldid=629985" से लिया गया