अब्बास ख़ाँ सरवानी  

अब्बास ख़ाँ सरवानी इतिहास प्रसिद्ध सूर वंश के शासक शेरशाह का इतिहासकार था। उसने 'तवारिख़-ए-शेरशाही' नामक प्रसिद्ध ऐतिहासिक ग्रंथ की रचना की थी।

  • शेरखाह की राजस्थान में की गई कार्यवाहियों को लेखा देने वाला ग्रंथ 'तवारिख़-ए-शेरशाही' अब्बास ख़ाँ सरवानी द्वारा लिखा गया था।
  • इस ग्रंथ की रचना मध्य काल के समय 1588 ई. के पश्चात् हुई थी।
  • 'तवारिख़-ए-शेरशाही' में मेवाड़ के उदय सिंह, मारवाड़ के मालदेव आदि के शेरशाह से समबन्धों का विवरण प्राप्त होता है।
  • शेरशाह द्वारा सम्पूर्ण साम्राज्य में क़ानून और व्यवस्था को फिर से स्थापित करने के सम्बंध में उसका इतिहासकार अब्बास ख़ाँ सरवानी कहता है कि "ज़मींदार इतना डर गये थे कि कोई उसके ख़िलाफ़ विद्रोह का झंडा उठाना नहीं चाहता था और न किसी चोर, डाकू की यह हिम्मत नहीं पड़ती थी कि राह से गुजरने वाले राहगीरों को परेशान करे।"


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अब्बास_ख़ाँ_सरवानी&oldid=490155" से लिया गया