रोमिला थापर  

रोमिला थापर
रोमिला थापर
पूरा नाम रोमिला थापर
जन्म 30 नवम्बर, 1931
जन्म भूमि लखनऊ
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र इतिहासकार
मुख्य रचनाएँ 'भारत का इतिहास', 'अशोक तथा मौर्य साम्राज्य का पतन', 'प्राचीन भारत का सामाजिक इतिहास: विवेचना' आदि।
भाषा हिंदी, अंग्रेज़ी
विद्यालय पंजाब विश्वविद्यालय
प्रसिद्धि इतिहासकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी थापर कॉर्नेल विश्वविद्यालय, पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय और पेरिस में कॉलेज डी फ्रांस में अतिथि प्रोफेसर हैं।

रोमिला थापर (अंग्रेज़ी: Romila Thapar, जन्म: 30 नवम्बर 1931) भारतीय इतिहासकार हैं तथा इनके अध्ययन का मुख्य विषय "प्राचीन भारतीय इतिहास" रहा है।

जीवन परिचय

पंजाब विश्वविद्यालय से स्नातक करने के बाद, रोमिला थापर ने लंदन विश्वविद्यालय के 'स्कूल ऑफ़ ओरिएण्टल एंड अफ्रीकन स्टडीज़' से ए. एल. बाशम के मार्गदर्शन में 1958 में डॉक्टर की उपाधि अर्जित की। कालांतर में इन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली में प्रोफेसर के पद पर कार्य किया।

रचनाएँ

  • "अशोक तथा मौर्य साम्राज्य का पतन"
  • "प्राचीन भारत का सामाजिक इतिहास: विवेचना"
  • "समकालिक परिप्रेक्ष्य में प्रारंभिक भारतीय इतिहास (संपादिका)"
  • "भारत का इतिहास - खंड 1"
  • "प्रारंभिक भारत - उत्पत्ति से ई.1300 तक "

इनके ऐतिहासिक कार्यों में हिन्दू धर्म की उत्पत्ति सामाजिक बलों के बीच एक उभरती परस्पर क्रिया के रूप में चित्रित किया है। हाल ही में इन्होंने गुजरात के प्रसिद्ध "सोमनाथ मंदिर" के इतिहास के ऊपर लेख लिखा है।

सम्मान

थापर कॉर्नेल विश्वविद्यालय, पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय और पेरिस में कॉलेज डी फ्रांस में अतिथि प्रोफेसर हैं। वह 1983 में भारतीय इतिहास कांग्रेस की जनरल प्रेसिडेंट और 1999 में ब्रिटिश अकादमी की कोरेस्पोंडिंग फेलो चुनी गयीं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रोमिला_थापर&oldid=614508" से लिया गया