आदिपाप  

आदिपाप ईसाई धर्म का एक मूलभूत सिद्धांत है कि सब मनुष्य रहस्यात्मक रूप से प्रथम मनुष्य आदम के पाप के भागी बनकर 'ओरिजिनल सिन' अर्थात्‌ आदिपाप की दशा में जन्म लेते हैं; जिससे वे अपने ही प्रयत्न द्वारा मुक्ति प्राप्त करने में असमर्थ हैं। ईसा ने आदम के उस पाप का तथा मानव जाति के अन्य सब पापों का प्रायश्चित करके मुक्ति का द्वार खोल दिया।[1]

बाइबिल के प्रथम ग्रंथ में इसका वर्णन किया गया है। आदम ने ईश्वर के आदेश का उल्लंघन किया और फलस्वरूप ईश्वर की मित्रता खो बैठा। इसी कारण मानव जाति की दुर्गति हुई और संसार में मृत्यु, दु:ख और विषयवासना का प्रवेश हुआ।[2] फिर भी यहूदी धर्म में आदिपाप की शिक्षा नहीं मिलती। इसका सर्वप्रथम प्रतािपादन बाइबिल के उत्तरार्ध में हुआ है।[3] आदिपाप का तत्व इसमें है कि आदम के पाप के कारण समस्त मानव जाति ईश्वर की मित्रता से वंचित हुई थी। इसका परिणाम यह हुआ कि मुनष्य मृत्यु, दु:ख और विषयवासना का शिकार बन गए, यद्यपि कैथोलिक गिरजा उन लोगों का विरोध करता है जो लूथर, कैलविन आदि के समान सिखलाते हैं कि आदिपाप के फलस्वरूप मनुष्य का स्वभाव पूर्ण रूप से दूषित हुआ है।[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 369 |
  2. द्र. 'आदम'
  3. द्र. रोमियों के नाम संत पौल्स कापत्र, अध्याय 5
  4. सं.ग्रं.-जे. फ्यूडोर्फ़र : एर्बसुंडे यूनिट एर्ब्तोद फीम एपोस्टल पौल्स, मंस्टर, आइ.डब्ल्यू., 1927।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आदिपाप&oldid=630601" से लिया गया