कलीसिया  

कलीसिया ईसाईयों और यहूदियों की धर्ममंडली को कहते हैं।[1]

  • कलीसिया का शाब्दिक अर्थ है- "लोगों का समूह या सभा"।
  • कुछ विशेष ईसाई विश्वासियों का संगठन या समूह कलीसिया है, जिन्हें ईसाई मान्यता के अनुसार, एकमात्र परमेश्वर में विस्वास हो तथा उनके पुत्र ईसा मसीह पर विश्वास हो। विश्वासियों के इस समुदाय के सदस्य इस तरह देश-काल से परे एक सार्वभौमिक कलीसिया के भाग होते हैं। यह सार्वभौमिक कलीसिया एक वैश्विक समुदाय के समान है, जिसमें हर विश्वासी एक अंग का कार्य करता है।


इन्हें भी देखें: बाइबिल, ईसा मसीह, क्रिसमस एवं मरियम


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 564, परिशिष्ट 'ङ' |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कलीसिया&oldid=628014" से लिया गया