बपतिस्मा  

बपतिस्मा ईसाई बनाने के समय का एक प्रधान संस्कार है, जिसमें पादरी अभिमंत्रित जल ईसाई होने वाले व्यक्ति पर छिड़कते हैं और तब वह दीक्षित समझा जाने लगता है।[1]

  • ईसाई धर्म में बपतिस्मा जल के प्रयोग के साथ किया जाने वाला एक धार्मिक कृत्य है, जिसके द्वारा किसी व्यक्ति को चर्च की सदस्यता प्रदान की जाती है।
  • स्वयं ईसा मसीह का भी बपतिस्मा किया गया था।
  • प्रारंभिक ईसाईयों में उम्मीदवार अथवा बपतिस्माधारी को पूरी तरह या आंशिक रूप से डुबोना बपतिस्मा का सामान्य रूप था। हालांकि बपतिस्मादाता जॉन द्वारा अपने बपतिस्मा के लिये एक गहरी नदी का प्रयोग निमज्जन का सुझाव दिया गया है, लेकिन ईसाई बपतिस्मा के संबंध में तीसरी शताब्दी और उसके बाद के चित्रात्मक तथा पुरातात्विक प्रमाण यह सूचित करते हैं कि सामान्य रूप से उम्मीदवार को पानी में खड़ा रखा जाता था और उसके शरीर के ऊपरी भाग पर जल छिड़का जाता था।


इन्हें भी देखें: बाइबिल, ईसा मसीह, क्रिसमस एवं मरियम


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 564, परिशिष्ट 'ङ' |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बपतिस्मा&oldid=628145" से लिया गया