पुष्यगुप्त वैश्य  

पुष्यगुप्त वैश्य चंद्रगुप्त मौर्य के शासन काल में सौराष्ट्र (वर्तमान गुजरात) का प्रांतपति था। गुजरात स्थित सुदर्शन झील का निर्माण उसने कराया था।

  • बौद्ध साहित्य एवं अशोक के अभिलेखों से स्पष्ट होता है कि मौर्य साम्राज्य अनेक प्रान्तों में विभक्त था और राजकुल के राजकुमार ही प्रायः उनके राज्यपाल हुआ करते थे।
  • रुद्रदामन (150 ई.) के जूनागढ़ अभिलेख से पता चलता है कि चंद्रगुप्त मौर्य ने सौराष्ट्र (गुजरात) को अपने साम्राज्य का एक प्रांत बनाया था और वहाँ एक प्रान्तपति नियुक्त किया था, जो कि वैश्य वंश का था, जिसका नाम पुष्यगुप्त था; जो कि चंद्रगुप्त का बहनोई था। उसने वहाँ जनता के हित के लिए विशाल सुदर्शन झील का निर्माण कराया था।
  • कालांतर में सुदर्शन झील जीर्ण अवस्था को प्राप्त होती रही। बाद के समय में तुषास्प, जो कि मौर्य सम्राट अशोक का महामात्य था, उसने झील का पुनर्निर्माण करवाया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पुष्यगुप्त_वैश्य&oldid=626202" से लिया गया