सर्पयज्ञ  

सर्पयज्ञ हिन्दू पौराणिक ग्रन्थ महाभारत के अनुसार एक यज्ञ का नाम है, जिसे सर्पों के विनाश के लिये, अभिमन्यु के पौत्र और राजा परीक्षित के पुत्र जनमेजय ने किया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

महाभारत शब्दकोश |लेखक: एस. पी. परमहंस |प्रकाशक: दिल्ली पुस्तक सदन, दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 113 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सर्पयज्ञ&oldid=561315" से लिया गया