अनंतपुरा मंदिर  

अनंतपुरा मंदिर केरल के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। यह मंदिर केरल के कसरगोड में बेकल नामक स्थान पर स्थित है। केरल में केवल यही एक झील या तालाब वाला मंदिर है। मंदिर की महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि जाति, जातीयता और धर्म की परवाह किए बिना यहाँ कोई भी जा सकता है।[1]

  • स्थानीय लोक कथाओं के अनुसार यह मंदिर अनंत पद्मनाभ स्वामी का मूल आसन या मूल स्थान है।
  • अनंतपुरा मंदिर की झील में एक मगर रहता है। ऐसा माना जाता है कि यह सम्मानित प्राणी मंदिर का रक्षक है। ऐसा भी कहा जाता है कि जब एक मगर की मृत्यु होती है तो आश्चर्यजनक रूप से कोई दूसरा मगर उसका स्थान ले लेता है।
  • इस मंदिर का निर्माण नौवीं शताब्दी में हुआ था। मंदिर बेकल से 30 कि.मी. की दूरी पर स्थित है।
  • केरल के इस प्रसिद्ध मंदिर में एक 'चुत्ताम्बलम' (मुख्य मंदिर के चारों ओर निर्मित बरामदा) है।
  • मंदिर की झील, जिसमें यह पवित्र स्थल स्थित है, एक बड़ी इमारत के अंदर है। इसका माप लगभग 302 वर्ग फीट है, जो लगभग 2 एकड़ के बराबर होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अनंतपुरा मंदिर, बेकल (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 21 जून, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनंतपुरा_मंदिर&oldid=572398" से लिया गया