वयनाड वन्यजीव अभयारण्य  

वयनाड वन्यजीव अभयारण्य केरल के वन्य जीवन को देखने का एक आकर्षक स्थान है। इस अभयारण्य की स्थापना वर्ष 1973 ई. में की गई थी।

  • यह अभयारण्य उत्तर-पूर्व में कर्नाटक के नगरहोल और बान्दीपुर तथा दक्षिण-पूर्व में तमिलनाडु के मदुमलाई के आरक्षित वन्य क्षेत्रों के नेटवर्क के पास स्थित है।
  • जैव विविधता से परिपूर्ण वयनाड वन्यजीव अभयारण्य 'नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व' का अभिन्न हिस्सा है, जिसकी स्थापना क्षेत्र की जैव विरासत के संरक्षण के उद्देश्य से की गई थी।
  • वयनाड वन्यजीव अभयारण्य विभिन्न प्रजातियों के जीव-जंतुओं एवं वनस्पतियों के मामले में अत्यंत समृद्ध है।
  • अभयारण्य में प्रबंधन द्वारा संरक्षण के वैज्ञानिक उपायों का सहारा लिया जाता है, जिसके अंतर्गत इस वन क्षेत्र और उसके आस-पास रहने वाले आदिवासियों एवं अन्य समुदायों के स्वाभाविक जीवन शैली का पूरा ध्यान रखा जाता है।
  • अभयारण्य में आने की अनुमति प्रदान करने वाला प्राधिकार 'वाइल्डलाइफ वार्डन', वयनाड वन्यजीव अभयारण्य, मुत्तन्गा, सुल्तान बाथरी को प्राप्त है।
  • इस अभयारण्य तक पहुंचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा कालीकट का 'अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा', कारीपुर और निकटतम रेलवे स्टेशन कोझीकोड है, जो 110 कि.मी. की दूरी पर है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वयनाड_वन्यजीव_अभयारण्य&oldid=494593" से लिया गया