गुह्म तीर्थ मथुरा  


  • यहाँ स्नान करने पर संसार के आवागमन से मुक्त होकर भगवत लोक की प्राप्ति होती हैं ।
अस्ति चान्यतरं गुह्मं सर्वसंसारमोक्षणम् ।
तस्मिन्स्नातो नरो देवि ! मम लोके महीयते ।।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गुह्म_तीर्थ_मथुरा&oldid=172102" से लिया गया