}

करेहला  

करेहला श्रीराधा जी की प्रमुख अष्टसखियों में से एक ललिता जी का जन्म स्थान है। यह स्थान ब्रजमण्डल के प्रसिद्ध तीर्थ स्थानों में से एक है।

  • करहाला गोपी का पुत्र गोवर्धन मल्ल अपनी पत्नी चन्द्रावली के साथ इस स्थान पर कभी-कभी रहता था। कभी-कभी 'सखीथरा'[1] में रहता था।
  • चन्द्रावली के पिता का नाम चन्द्रभानु गोप और माता का नाम इन्दुमती गोपी था। चन्द्रावली जी राधिका की ज्येष्ठी बहन थीं।
  • वृषभानु महाराज पाँच भाई थे- 'वृषभानु', 'चन्द्रभानु', 'रत्नभानु', 'सुभानु' और 'श्रीभानु'। वृषभानु जी सबसे बड़े थे। राधिका वृषभानु की कन्या होने के कारण चन्द्रावली की बहन लगती थीं।
  • पद्मा आदि यूथेश्वरियाँ करेहला में रहकर चन्द्रावली से श्रीकृष्ण का मिलन कराने के लिए प्रयत्न करती थीं। यहाँ कंकण कुण्ड, कदम्ब खण्डी, झूला, श्रीवल्लभाचार्य, श्रीविट्ठलेश तथा श्रीगोकुलनाथ जी की बैठकें है।
  • यह स्थान कामई से एक मील उत्तर में हैं। भाद्र पूर्णिमा तिथि में बूढ़ीलीला प्रसंग में यहाँ रासलीला होती है।


इन्हें भी देखें: कोकिलावन, ब्रज एवं कृष्ण

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सखी-स्थली गोवर्धन के निकट

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=करेहला&oldid=550301" से लिया गया