रत्नाकर कुण्ड, कोकिलावन  

रत्नाकर कुण्ड नन्दगांव से तीन मील उत्तर और जावट ग्राम से एक मील पश्चिम में पड़ने वाले कोकिलावन में स्थित है। इस स्थान का सम्बंध श्रीराधा-कृष्ण से है।

  • राधा जी की सखियों ने अपने-अपने घरों से दूध लाकर इस सरोवर को प्रकट किया था।
  • इस सरोवर से नाना प्रकार के रत्न निकलते थे, जिससे सखियाँ राधिका जी का श्रृंगार करती थीं-
'सख्या: क्षीरसमुद्भुत रत्नाकरसरोवरे। नाना प्रकाररत्नानामुद्भवे वरदे नम: ॥'[1]
  • समस्त पापों को क्षय करने वाला तथा धन-धान्य प्रदान करने वाला यह सरोवर भक्तों को श्रीराधा-कृष्ण युगल की अहैतुकी भक्ति रूप महारत्न प्रदान करने वाला है।


इन्हें भी देखें: कोकिलावन एवं ब्रज


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नारद पंचरात्र

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रत्नाकर_कुण्ड,_कोकिलावन&oldid=602338" से लिया गया