ब्रह्मचारी ठाकुर बाड़ी वृन्दावन  

  • ग्वालियर के महाराज जिया जी सिंधिया ने 1860 ई. में इस भव्य मन्दिर का निर्माण किया था।
  • उन्होंने अपने गुरु श्रीगिरिधारीदास ब्रह्मचारी जी को सेवा का भार अर्पण कर दिया था।
  • इस मन्दिर में श्रीराधागोपाल, हंसगोपाल तथा नित्यगोपाल-तीन विग्रह पृथक्-पृथक् प्रकोष्ठों में विराजमान हैं।
  • पत्थरों से निर्मित यह भव्य मन्दिर दर्शन योग्य है।
  • यह मन्दिर लालाबाबू मन्दिर के पास ही है।


संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ब्रह्मचारी_ठाकुर_बाड़ी_वृन्दावन&oldid=67003" से लिया गया