तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली अनुवाक-3  

  • इस अनुवाक में 'प्राणमय कोश' का वर्णन है।
  • प्राण ही किसी भी शरीर की जीवनी-शक्ति होता है। जो प्राण-रूपी ब्रह्म की उपासना करते हैं, वे दीर्घ जीवन पाते हैं।
  • यही अन्नमय शरीर का 'आत्मा' है।
  • इस देह का सिर 'यजुर्वेद' है, 'ॠग्वेद' दाहिना पंख है, ' सामवेद' बायां पंख है। और आदेश उस देह का मध्य भाग है।
  • 'अथर्व' के मन्त्र ही इसका पूंछ वाला भाग है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः