तैत्तिरीयोपनिषद भृगुवल्ली अनुवाक-6  

  • इस बार तप करने के पश्चात् भृगु मुनि ने जाना कि 'आनन्द' ही 'ब्रह्म' है।
  • सब प्राणी इसी से उत्पन्न होते हैं, जीवित रहते हैं और मृत्यु होने पर इसी में समा जाते हैं।
  • इस बार वरुण ऋषि ने उसे बताया कि वे 'ब्रह्मज्ञान' से पूर्ण हो गये हैं।
  • जिस समय साधक 'ब्रह्म' के 'आनन्द-स्वरूप' को जान जाता है, उस समय वह प्रचुर अन्न, पाचन-शक्ति, प्रजा, पशु, ब्रह्मवर्चस तथा महान् कीर्ति से समप्न्न होकर महान् कहलाता है।
  • ऋषि उन्हें बताते हैं कि श्रेष्ठतम 'ब्रह्मविद्या' किसी व्यक्ति-विशेष में स्थित नहीं है।
  • यह परम व्योम (आकाश) में स्थित है।
  • इसे साधना द्वारा ही जाना जा सकता है।
  • कोई भी साधक इसे जान सकता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः