तैत्तिरीयोपनिषद भृगुवल्ली अनुवाक-3  

  • पुन: तप करने के बाद भृगु को बोध हुआ कि 'प्राण' ही ब्रह्म है; क्योंकि उसी से जीवन है और उसी में जीवन का लय है।
  • मिलने पर वरुण ऋषि ने अपने पुत्र की सोच का समर्थन किया, किन्तु अभी सोचने के लिए कहा।
  • तप से ही 'ब्रह्म' को जाना जा सकता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः