तैत्तिरीयोपनिषद शिक्षावल्ली अनुवाक-6  

  • इस अनुवाक में पुरातन पुरुष 'परब्रह्म' की उपासना का योग बताया गया है।
  • वह अमृत-रूप और प्रकाश-स्वरूप परम पुरुष हृदय स्थित आकाश में विराजमान है।
  • हमारे कपाल में 'ब्रह्मरन्ध्र' इन्द्र योनि के रूप में स्थित है।
  • निर्वाण के समय साधक 'भू:' स्वरूप अग्नि में प्रवेश करता है, भुव: स्वरूप वायु में प्रतिष्ठित होता है और फिर 'स्व:' स्वरूप आदित्त्य में होकर 'मह:', अर्थात् 'ब्रह्म' में अधिष्ठित हो जाता है।
  • वह सम्पूर्ण इन्द्रियों और विज्ञान का स्वामी हो जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः