तैत्तिरीयोपनिषद भृगुवल्ली अनुवाक-8  

  • अन्न का कभी तिरस्कार न करें। यह व्रत है। जल अन्न है।
  • तेजस अन्न का भोग करता है।
  • तेजस जल में स्थित है और तेजस में जल की स्थिति है।
  • इस प्रकार अन्न में ही अन्न प्रतिष्ठित है।
  • जो साधक इस रहस्य को जान लेता है, वह अन्न रूप ब्रह्म में प्रतिष्ठत हो जाता है।
  • उसे सभी सुख, वैभव और यश प्राप्त हो जाते हैं और वह महान् हो जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः