तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली अनुवाक-6  

  • इस अनुवाक में 'आनन्दमय कोश' की व्याख्या की गयी है।
  • ब्रह्म को 'सत्य' स्वीकार करने वाले सन्त कहलाते हैं।
  • विज्ञानमय शरीर का 'आत्मा' ही आनन्दमय शरीर का भी 'आत्मा' है।
  • परमात्मा अनेक रूपों में अपने आपको प्रकट करता है।
  • उसने जगत् की रचना की और उसी में प्रविष्ट हो गया।
  • वह वर्ण्य और अवर्ण्य से परे हो गया।
  • किसी ने उसे 'निराकार' रूप माना, तो किसी ने 'साकार' रूप। अपनी-अपनी कल्पनाएं होने लगीं।
  • वह आश्रय-रूप और आश्रयविहीन हो गया, चैतन्य और जड़ हो गया। वह सत्य रूप होते हुए भी मिथ्या-रूप हो गया। परन्तु विद्वानों का कहना है कि जो कुछ भी अनुभव में आता है, वही 'सत्य' है, परब्रह्म है, परमेश्वर है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः