पवनार  

पवनार महाराष्ट्र के वर्धा ज़िले में स्थित है।

  • इसकी पहचान प्राचीन प्रवरपुर से की जाती है। जो वाकाटकों की राजधानी थी।
  • यहाँ खुदाई में काले-लाल मृदभाण्ड के अतिरिक्त दुहत्थी सुराही के टुकड़े मिले हैं। और क्षत्रपों के सिक्के भी मिले हैं।
  • यहाँ की सबसे महत्त्वपूर्ण खोज चौथी शताब्दी के अंतिम भाग अथवा प्रारम्भिक पाँचवी शताब्दी में निर्मित एक मन्दिर के अवशेष हैं।
  • यह एक ऐतिहासिक गांव है जो धाम नदी के तट पर बसा है।
  • यह गांव ज़िले की सबसे प्राचीन बस्तियों में एक है।
  • राजपूत राजा पवन के नाम पर इसका नाम पवनार पड़ा।
  • गांव में गांधी कुटी और आचार्य विनोबा भावे का परमधाम आश्रम देखा जा सकता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पवनार&oldid=509141" से लिया गया