बिदनूर  

बिदनूर महाराष्ट्र में छत्रपति शिवाजी के समय में तुंगभद्रा नदी के उद्गम स्थान के पास पश्चिमी घाट पर एक पहाड़ी राज्य था। यहाँ के राजा का नाम 'शिवाप्पा' था।

  • बीजापुर के सुल्तान अली आदिलशाह ने इस राज्य पर विजय प्राप्त कर शिवाप्पा को अपने अधीन कर लिया।
  • एक वर्ष के बाद ही शिवाप्पा की मृत्यु होने पर उसका पुत्र गद्दी पर बैठा, जिसे 1676 ई. में शिवाजी ने अपना करद बना लिया।
  • शिवाजी के समकालीन कविवर भूषण ने बिदनूर को 'विधनोल' लिखा है-
'उत्तर पहार विधनोल खंडहर झारखंडहू प्रचार चारु केली है विरद की'[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. शिवराज भूषण-159.
  • ऐतिहासिक स्थानावली| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार, पृष्ठ संख्या - 629

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बिदनूर&oldid=344113" से लिया गया