श्रीवर्धन  

श्रीवर्धन पूना, महाराष्ट्र का ऐतिहासिक स्थान। यह महाराष्ट्र के नायक बालाजी विश्वनाथ के सुपुत्र बाजीराव प्रथम (दूसरे पेशवा) का जन्म स्थान था।

  • बाजीराव प्रथम का, जिसने महाराष्ट्र की शक्ति की दुंदुभि सारे भारत में बजाई, जन्म 1699 ई. में हुआ था। पिता की मृत्यु के 15 दिन पश्चात् ही इन्हें पेशवा की गद्दी पर साहू ने आसीन कर दिया था। इन्होंने हिन्दू जाति के संगठन को सुदृढ़ बनाने का बहुत प्रयास किया। इनके समय में महाराष्ट्र राज्यसत्ता की धाक उत्तरी हिन्दुस्तान में भी छाई हुई थी। यहां तक कि दिल्ली का मुग़ल बादशाह भी इनका वशवर्ती बन गया था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 923 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=श्रीवर्धन&oldid=611565" से लिया गया