सज्जनगढ़ क़िला  

सज्जनगढ़ क़िला सतारा, महाराष्ट्र से 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ छत्रपति शिवाजी के गुरु समर्थ रामदास स्वामी समाधी में लीन हुए थे।

  • सज्जनगढ़ और वासोटा क़िलों का निर्माण मराठा शैली में किया गया है।
  • इसे पहले अस्वल्यानगढ़ या अस्वल्गढ़ के नाम से भी जाना जाता था।
  • क़िले का निर्माण दसवीं सदी में करवाया गया था।
  • यह क़िला सतारा से नौ कि.मी. की दूरी पर है और 312 मीटर ऊँचा तथा 1525 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • सज्जनगढ़ क़िले के पास ही दो झीलें हैं।
  • 'रामनवमी' के त्यौहार पर इस क़िले के आस-पास कि जगह को बहुत सुन्दर तरीके से सजाया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सज्जनगढ़_क़िला&oldid=308817" से लिया गया