बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-1  

इस अध्याय में छह ब्राह्मण हैं।

  • प्रथम ब्राह्मण में, सृष्टि-रूप यज्ञ' को अश्वमेध यज्ञ के विराट अश्व के समान प्रस्तुत किया गया है। यह अत्यन्त प्रतीकात्मक और रहस्यात्मक है। इसमें प्रमुख रूप से विराट प्रकृति की उपासना द्वारा 'ब्रह्म' की उपासना की गयी है।
  • दूसरे ब्राह्मण में, प्रलय के बाद 'सृष्टि की उत्पत्ति' का वर्णन है।
  • तीसरे ब्राह्मण में, देवताओं और असुरों के 'प्राण की महिमा' और उसके भेद स्पष्ट किये गये हैं।
  • चौथे ब्राह्मण में, 'ब्रह्म को सर्वरूप' स्वीकार किया गया है और चारों वर्णों (ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र) के विकास क्रम को प्रस्तुत किया गया है।
  • पांचवें ब्राह्मण में, सात प्रकार के अन्नों की उत्पत्ति का उल्लेख है और सम्पूर्ण सृष्टि को 'मन, वाणी और प्राण' के रूप में विभाजित किया गया है।
  • छठे ब्राह्मण में, 'नाम, रूप और कर्म' की चर्चा की गयी है।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

ब्राह्मण-1 | ब्राह्मण-2 | ब्राह्मण-3 | ब्राह्मण-4 | ब्राह्मण-5

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-1

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः