बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-5 ब्राह्मण-14  

  • इस ब्राह्मण में 'गायत्री' के तत्त्वज्ञान एवं माहात्म्य का वर्णन किया गया है।
  • उपनिषद गायत्री के तीन चरणों की ही उपासना की बात कहते हैं चौथा चरण 'दर्शन' चरण है, अर्थात् देखा जाने वाला। उसे अनुभूतिगम्य कहा गया है।
  • यह पद सत्य में स्थित है। गायत्री प्राण में स्थित है।
  • इस गायत्री ने गयों, अर्थात् प्राणों का त्राण किया है। इसीलिए इसे 'गायत्री' कहते हैं।
  • गायत्री महाशक्ति का मुख 'अग्नि' है।
  • गायत्री विद्या में निष्णात व्यक्ति के समस्त पाप भस्म हो जाते हैं।
  • वह शुद्ध, पवित्र व अजर-अमर हो जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

ब्राह्मण-1 | ब्राह्मण-2 | ब्राह्मण-3 | ब्राह्मण-4 | ब्राह्मण-5

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-1

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः