बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-5 ब्राह्मण-3 से 4  

  • इन दोनों ब्राह्मणों में 'हृदय' और 'सत्य' का विश्लेषण संक्षिप्त रूप से किया है।
  • यह हृदय प्रजापति है।
  • इसके तीन अक्षरों का अर्थ- 'हृ' से हरणशील है, अर्थात् यह कहीं से भी अभीष्ट पदार्थ का हरण करता है।
  • 'द' अक्षर का अर्थ दान से है और 'यम्' अक्षर का अर्थ गाति से हैं यह जानने वाला स्वर्ग को प्राप्त करता है।
  • यह हृदय ही सत्य-स्वरूप 'ब्रह्म' है।
  • जो इस प्रकार जानता है, वह समस्त लोकों को जीत लेता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

ब्राह्मण-1 | ब्राह्मण-2 | ब्राह्मण-3 | ब्राह्मण-4 | ब्राह्मण-5

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

बृहदारण्यकोपनिषद अध्याय-1

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः